Breaking News
Home / top / आत्म स्वाभिमान और साहस की प्रतिमूर्ति .. महिला दिवस की बधाई की असली हकदार है ये महिला ….

आत्म स्वाभिमान और साहस की प्रतिमूर्ति .. महिला दिवस की बधाई की असली हकदार है ये महिला ….

साहस और स्वाभिमान….
विलोक पाठक
NEWS🔍INVESTIGATION -: पूरे देश में महिला सशक्तिकरण को लेकर केंद्र और प्रदेश की सरकारें विभिन्न योजना चलाकर महिलाओं को सशक्त बना रही हैं । पूरे विश्व मे महिला दिवस मनाया जा रहा है और इस अवसर पर विभिन्न तरह के आयोजन करने वाली वुमन क्लब और संस्थाएं सक्रिय हैं, और सामाजिक रूप से महिलाओं को सम्मानित कर रही हैं, परंतु इस चमक दमक से दूर महिला दिवस पर असली बधाई की हकदार वह महिला है, जो आत्म स्वाभिमान और साहस के चलते पिछले 19 वर्ष से सड़क पर चाय बेचकर अपनी आजीविका चला रही है  ।

जी हां बात है जबलपुर के जवाहरगंज क्षेत्र की जहां पर सरला नाम की महिला पिछले 19 वर्ष से चाय की दुकान चला रही है । इस चाय की दुकान से उसने अपने 6 बच्चों का पालन पोषण किया। इन 6 बच्चों में 5 लड़कियां हैं जिनमें से चार की शादियां वह इस मेहनत की कमाई से कर चुकी है । इस महिला की हिम्मत कि यदि बात की जाए तो सुबह 6:00 बजे से अपनी चाय की दुकान खोलकर मेहनत करने वाली यह महिला रात्रि 10:00 बजे तक पैदल घूम कर चाय बेचती है, और यह सब केवल अपने स्वाभिमान के चलते करती है । किसी की बात सहना और नौकरी उसे बर्दाश्त नहीं । बकौल सरला वह मेहनत में विश्वास रखती है । बेहद धार्मिक प्रवृत्ति की इस महिला को लोगों ने कई धार्मिक आयोजनों में भागीदारी लेते भी देखा है । इतनी मेहनत के बाद सरला घर भी बहुत अच्छे और व्यवस्थित रूप से चलाती है ।NEWS🔍INVESTIGATION जब सरला  से बात की गई और शासकीय योजनाओं के तहत उसे मिलने वाली सुविधाओं के बारे में पूछा तो उसका बड़ी बेबाकी से साफ कहना था, कि कई योजनाओं में उसने फॉर्म तो भरे परंतु आज तक उसके कार्ड नहीं बने ,और न ही उसे कोई लाभ मिला ।

श्रमिक योजना हो या फिर अन्य कोई योजना ,सरकारी योजनाओं के नाम पर गरीबों को लूटने वालों ने इसे भी नहीं छोड़ा । आयुष्मान कार्ड जो कि  सरकार की तरफ से निशुल्क बनता है, उसमें भी इस महिला से ₹150 ले लिए गए, ऐसे कई गरीब महिलाएं हैं जिनको शासकीय योजनाओं के नाम पर केवल ठेंगा NEWS🔍INVESTIGATION दिखाया जाता है । पिछली सरकार में मंत्री रहे, से कुछ मीटर दूर रहने वाली इस महिला को कोई लाभ नहीं मिला,और ना ही किसी ने इसकी सुध ली ।
सरला के अनुसार अब सरकार बदली है तो उसको एक नई उम्मीद बंधी है । बहरहाल जो भी हो परंतु सरला से उन सभी महिलाओं को प्रेरणा लेना चाहिए जो स्वाभिमान के चलते कड़ी मेहनत और अपने आत्मबल पर विश्वास रखती है ।

About News Investigation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *